खोज करे
  • FS Team

पहाड़ों में ड्रोन से आपदा प्रतिक्रिया में बदलाव लाना

कोई भी आपदा आने से पहले, उदाहरण के लिए, किसी विशेष स्थलाकृति पर नज़र रखने के लिए, ड्रोन का प्रयोग करके जोखिम पर नियंत्रण पाया जा सकता है और संभावित नुकसान से बचा जा सकता है। बाढ़ वाले क्षेत्रों में गंभीर बाढ़ आने के बाद विपत्तिपूर्णस्थितिपैदाहो सकती है, जैसा कि सैंडी तूफ़ान की वजह से हुआ था। स्थलाकृतियों की 3डीमॉडलिंग से भू-स्खलन के प्रति संवेदनशील क्षेत्रों को निर्धारित करने में मदद मिलती है। ब्रिटिश मलेशियाई वैज्ञानिकों ने मरुस्थलीकरण के रुझानों को ट्रैक करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया था, जिन्हें ज़्यादा बीमारी होने की घटनाओं से जोड़ा गया है।


उदाहरण के लिए, पर्वत श्रृंखलाओं में गिरे हुए लुफ्थांसाविमान के मलबों और लोगों की तलाश करना जटिल और मुश्किल है। इसकी वजह से कर्मचारियों को थकावट हो सकती है, कुशलता में कमी आ सकती है और किसी के छूटने की संभावना बढ़ सकती है। खतरनाक क्षेत्रों में बचाव और आपातकालीन प्रतिक्रिया वाली गतिविधियां तब की जाती हैं जब पीड़ित फंसे रह जाते हैं, जो एवेरेस्टमें भूकंप के बाद फंसे हुए पर्वतारोहियों को बचाने के बराबर होता है। प्राकृतिक आपदाओं या आतंकवाद की घटनाओं के बाद परिवहन के ईंधन की आपूर्ति कभी-कभी रुक जाती है। जब राजमार्गों, सुरंगों, संपर्क कॉर्ड और गैस और पानी के सेक्शनों द्वारा क्षेत्र के नागरिकों की सुरक्षा खतरे में पड़ जाती है, तब आपातकालीन कर्मचारी सुविधाओं को बढ़ावा देने के लिए, आपूर्ति प्रदान करने के लिए और दुख और आगे और नुकसान को कम करने के लिए ड्रोन का प्रयोग कर सकते हैं।


विशेष रूप से, उच्च पर्वतीय क्षेत्रों मेंरेगिस्तान एक अलग परिदृश्य है। इन स्थानों पर रहने वाले लोगों को कभी भी यह स्वीकार करने में कठिनाई नहीं होती कि आधुनिक वास्तुकला और नई तकनीक से बचना एक आकर्षण है, भले ही तकनीक पहाड़ी विशेषज्ञता का एक ऐसा हिस्सा है जो तेजी से सामान्य हो रहा है। वेबकैमवाले मिनीस्पेसशिपके घूमने की तेज़ आवाज़ पहाड़ों पर रहने वाले कई लोगों की सोच को अच्छी तरह से दर्शा सकती है कि वो क्या करना चाहते हैं।


राहत और बहाली कार्यों का मुख्य सिद्धांत यह है कि टीम के सदस्य खोजने के बजाय बहाली में जितना ज़्यादा समय लगा सकते हैं,वो अपनी चीज़ों को उतने ही अच्छे तरीके से प्रयोग कर पाएंगे। यह ख़ासकर खतरनाक परिस्थितियों में सही होता है।


ड्रोन खोज और बचाव क्लब के डेटाबेस में वापस आने पर नज़र रख सकता है ताकि समन्वयकों को लाइवस्ट्रीम और डेटा प्रदान किया जा सके जो ज़रूरत पड़ने पर कार्रवाई कर सकते हैं। एक यूएवी क्षेत्रों को ट्रैक कर सकता है और आपातकालीन कर्मचारियों का नजदीकी गांव या मार्ग पर सुरक्षित रूप से मार्गदर्शन कर सकता है।


ड्रोन हिमालय में आपदा प्रतिक्रिया में कैसे बदलाव करेंगे


यह बहुत आवश्यक है कि विपत्तिपूर्ण घटनाओं और ज़्यादा व्यापक आपदा राहत में रहस्यमय तरीके से गायब होने वाले लोगों को जल्दी से जल्दी खोजा जाए ताकि उनके बचने की संभावना में बढ़ोतरी हो सके। भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं या विस्फोट से होने वाली तबाही में लोग मलबों के नीचे फंस सकते हैं। ज़्यादा बाढ़ आने पर लोग ऐसे क्षेत्रों में भी फंस सकते हैं, जहाँ से बाहर निकलने का कोई सुरक्षित रास्ता न हो, जैसे इमारतों के ऊपर या ऊपर के कमरे में। इसके अलावा, पहाड़ी इलाकों जैसी स्थलाकृति या बाहरी परिदृश्य की व्यापक सुरक्षा के दौरान बचाव गतिविधियों के लिए मार्गदर्शन करना अक्सर मुश्किल होता है।


यूएवी में योगदान करने के लिए पर्वतीय आपातकालीन कर्मचारियों के पास प्रभावशाली उपकरण होते हैं। ड्रोन स्थिति-विशेष जानकारी प्रदान करके और नुकसान की संभावनाओं को कम करके, सीधे लक्षित क्षेत्र या आपदा स्थान को परिवर्तित कर सकता है। मानव अस्तित्व की तुलना में यूएवी महंगे होते हैं, और पर्वतीय आपातकालीन कर्मचारियों को ड्रोन से बहुत ज़्यादा मदद मिलती है, क्योंकि वो चुस्त और आत्मनिर्भर होते हैं।


मुख्य रूप से, राहत संगठन मुश्किल और ऐसी परिस्थितियों में काम करते हैं, जो भूमि पर उनकी गतिविधियों को काफी कम करती है। किसी घटना के 60 मिनट (जिसे 'ट्वाईलाईटऑवर्स' कहा जाता है) के अंदर शुरुआती प्रतिक्रिया का कुशल प्रयोग जन्म और मृत्यु के बीच का अंतर तय कर सकता है। जब वर्तमान में कोई आपदा जारी रहती है तो आपातकालीन कर्मचारियों को ड्रोन से यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि वो अपनी बचाव गतिविधियों को सबसे अच्छी तरह से कैसे निर्धारित कर सकते हैं।


अक्सरड्रोनइंफ्रारेडइमेजिंग के साथ आते हैं जिससे बड़ी आबादियों में अनसुलझे अपराधों का बेहतर तरीके से पता लगाने में सहायता मिलती है जिनका पता लगाना मुश्किल होता है। इससे न केवल पीड़ितों को समझने में मदद मिलती है, बल्कि यह बचाव ड्रोन वाले पहले उदाहरण की तुलना में किफायती और ज़्यादा सुरक्षित विकल्प भी प्रदान करता है। ड्रोन का प्रयोग ज़्यादातर आपातकालीन कर्मचारियों को परिस्थिति के अनुसार संवेदनशील जानकारी प्रदान करने के लिए किया जाता है - ताकि वो किसी आपदा के स्तर और प्रभाव का आकलन कर सकें, यातायात दुर्घटना के बाद परिवहन के प्रवाह का प्रबंधन कर सकें, या घर में आग लगने पर उसपर नज़र रख सकें।


ड्रोन की वायुजनित तस्वीरों से किसी महत्वपूर्ण परिस्थिति की तस्वीर ली जा सकती है, उस परिस्थिति के दौरान या उसके बाद भी, ताकि उस घटना की सीमा और प्रभावों के बारे में पता चल सके। इन हवाई तस्वीरों को वायुजनित तस्वीरों को मिलाने की क्षमता दिखाने के साथ-साथ सभी ज़रुरी पुनर्निर्माण एवं सड़कें बिछाने और विकास द्वारा अतिरिक्त धन पाने में मदद करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है। अपने भौतिक गुणों की वजह से, ड्रोन का प्रयोग सभी प्रकार की आपातकालीन स्थितियों और प्राकृतिक आपदाओं में वर्षों तक किया जा सकता है। तकनीकी सुधार यूएवी को विनाशकारी घटना की वजह से होने वाली तबाही को सुधारने और दुनिया भर में आपातकालीन प्रतिक्रिया कर्मियों के लिए तेज़ी से उपयोगी संसाधन बनने में सक्षम करेंगे।


सबसे बड़ी बाधा स्थिति का जायज़ा लेने के साथ-साथ तूफान, बाढ़ या आग जैसी प्राकृतिक आपदाओं से सबसे ज़्यादा प्रभावित क्षेत्रों को सहायता प्रदान करने में आती है। हालाँकि, व्यावसायिक विमान और उपग्रह प्रणालियां विनाश की मॉडलिंग का समर्थन कर सकती हैं, लेकिन पारंपरिक विमान और हवाई इमेजरी की कीमत बहुत ज़्यादा होती है। सामान्य तौर पर, दोनों विकल्पों को स्वीकार करना मुश्किल है।


3-डी मानचित्रों के साथ, ड्रोन तेज़ी से बचे हुए लोगों की अंतर्राष्ट्रीय सहायता पर महत्वपूर्ण डेटा प्रदान कर सकते हैं, जो आम तौर पर उपग्रह डेटा से ज़्यादा व्यापक होता है। जहाँ तकनीक का अनुसरण करने वाले नए लोगों ने राहत प्रयासों में इस क्रांतिकारी बदलाव की सराहना की है, वहीं औद्योगिक विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि यह एजेंसियों और सरकारी विभागों के लिए सुरक्षा मुद्दों, नैतिक और कानूनी मुद्दों को उठा सकता है। उदाहरण के लिए, नेपाल में सुरक्षा संस्थानों के पास ड्रोन उड़ने की मीडिया रिपोर्टिंग ने इससे मिलने वाली छवि के दुरुपयोग की आशंकाओं को हवा दी है।


हाल के समय में, ड्रोन तकनीक के अत्यधिक विकास ने पर्वतीय आपातकालीन कर्मचारियों के कार्यों को पूरी तरह से बदलकर रख दिया है। जो लोग पर्वतारोहियों औरचोटिललोगों को बचाने के लिए ऊंचाइयों को पार करते हैं, अब उनके पास एक शक्तिशाली विमान सहायता मौजूद है। पर्वतीय आपातकालीन कर्मचारियों ने पिछले कुछ वर्षों में ड्रोन को तेजी से अपनाया है। धीमी स्वीकृति के बावजूद, निकट भविष्य में यूएवी से लाभ पाने वाले अन्य उद्योगों की तुलना में इससे मिलने वाले लाभ बहुत ज़्यादा होंगे।


लेकिन जैसे ड्रोन का नवीकरण बढ़ रहा है और यूएवी किफायती होते जा रहे हैं, वैसे ही ड्रोन और विभिन्न स्थितियों में राहत और बहाली टीमों की क्षमता भी प्रभावशाली हुई है। येयूएवी को भी सुलभ बना सकते हैं। इसके बहुत सारे और निश्चित प्रमाण हैं कि ड्रोन पर्वतीय आपातकालीन कर्मचारियों के लिए पैसे और समय की बचत कर सकते हैं, कर्मचारियों के लिए जोखिम कम कर सकते हैं और पहाड़ों पर होने वाली मौतों को रोक सकते हैं।


1 व्यू0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

दुनिया को हवाई टैक्सी की क्यों ज़रुरतहै?

हवाई टैक्सी एक छोटा यात्री विमान है, जो मांग के आधार पर छोटी यात्राएं करता है। फ्यूचर लिमिटेड एयरक्राफ्ट ट्रांसपोर्ट नेटवर्क (एसएटीएस) पर नासा और विमानन उद्योग की रिपोर्ट और हल्के विमान निर्माताओं की

स्वशासन में ड्रोन की भूमिका

पिछले कुछ समय से, रक्षा संस्थान और तकनीकी रूप से समझदार ग्राहक ड्रोन तकनीक का प्रयोग कर रहे हैं। इस तकनीक से मिलने वाले लाभ केवल इन उद्योगों तक सीमित नहीं हैं। ड्रोन की बढ़ती उपलब्धता के साथ, कई सबसे